ना सरकार में करंट, ना बिजली की तारों में-कुलदीप बिश्नोई

Kuldeep Bishnoi
Kuldeep Bishnoi
Congress leader and MLA Kuldeep Bishnoi

भाजपा पर तीखा व्यंग्य : पानी बिन नल, बिजली बिन तार, तीन साल बेकार वाह री भाजपा सरकार-

 

आदमपुर:

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं विधायक कुलदीप बिश्नोई ने भाजपा सरकार की कार्यप्रणाली पर तीखा कटाक्ष करते हुए व्यंग्यात्मक भाषा में कहा कि पानी बिन नल, बिजली बिन तार, तीन साल बेकार वाह री भाजपा सरकार। उन्होंने कहा कि भाजपा ने प्रदेश की जनता को बिजली, पानी जैसी बुनियादी जरूरतों से भी महरूम कर दिया है।

मंडी आदमपुर सहित हलके के प्रत्येक गांव में भीषण गर्मी के इस मौसम में लोग बेमियादी बिजली कटों तथा पेयजल की बढ़ती किल्लत से त्राही-त्राही कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में तो हालात इतने भयावह को चुके हैं कि लोगों को जहां पीने के पानी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है, वहीं लाईन लॉस के नाम पर जो भाजपा ने बिजली कटौती शुरू की है, उससे लोगों की दिनचर्या पूरी तरह से गड़बड़ा गई है। लॉइन लॉस की धमकी देकर बिजली विभाग शहरों के अर्बन क्षेत्रों में भी 12 से 15 घंटों के बिजली कट लगा रहा है। लाईन लॉस तो असल में बहाना है, भाजपा सरकार के कुप्रबंधन के कारण राज्य में बिजली व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है।

वे हलके के आधा दर्जन गांवों में विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के दौरान लोगों से बातचीत कर रहे थे। खट्टर सरकार पर उन्होंने कहा कि ना तो सरकार में करंट बचा है और ना ही बिजली की तारों में। इस दौरान उन्होंने लोगों के सुख-दुख में शिरकत की और जनसमस्याएं भी सुनी और मौके पर ही फोन पर अधिकारियों को जनसमस्याएं दूर करने के निर्देश भी दिए।

कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि आदमपुर सहित हिसार लोकसभा के साथ भाजपा जो भेदभाव बरत रही है, उसका खामियाजा उसे आने वाले चुनावों में भुगतना पड़ेगा। बिजली, पानी जैसी बुनियादी जरूरतों के लिए भी जब लोगों को तरसना पड़ जाए तो सरकार व प्रशासन की विफलता की पोल तो स्वत: ही खुल जाती है। सरकार व प्रशासन के रवैए के कारण आज आदमपुर सहित हिसार लोकसभा क्षेत्र में विकास कार्य पूरी तरह से ठप पड़े हुए हैं। पिछले ढाई वर्षों में उन्होंने आदमपुर हलके के प्रत्येक गांव की समस्याएं विस्तार से लिखकर मुख्यमंत्री, संबंधित विभाग के मंत्रियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों पत्राचार के माध्यम से जनसमस्याएं दूर करने की मांग की। वे निरंतर रिमाइंडर भेजकर सरकार व प्रशासन से मांग कर रहे हैं, परंतु सत्ता के नशे में भाजपा कुंभकरणी नींद से जागने को तैयार नहीं है।

कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर हर मोर्चे पर निरंतर असफल साबित हो रहे हैं। उनका न तो अपने मंत्रिमंडल से ही तालमेल बन पाया है और नही प्रशासनिक अधिकारियों से। राज्य के जमीनी हालातों की सही जानकारी न होने के कारण मुख्यमंत्री सिर्फ सरकारी अमले के भरोसे ही रहते हैं, जिससे आए दिन विवादास्पद एवं बेतुके फरमान जारी हो रहे हैं। मुख्यमंत्री की अनुभवहीनता का खामियाजा प्रदेश की जनता को उठाना पड़ रहा है। विधायक ने कहा कि भाजपा की जनविरोधी सरकार को कांग्रेस ही उखाड़ेगी।

राज्य का किसान, व्यापारी, कर्मचारी, मजदूर से लेकर हर वर्ग आज भाजपा सरकार की नीतियों से प्रताडि़त है। किसानों की इस सरकार में कोई सुनवाई नहीं है। चुनावों में किसानों को फसल लागत का 50 प्रतिशत मुनाफा देने का वादा करने वाला भाजपा ने स्वयं ही सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि वह ये मुनाफा नहीं दे सकती। फसल बीमा के नाम पर किसानों को लूटकर बीमा कंपनियों की तिजोरियां भरवाई गई हैं। 2016 में पूरे देश के किसानों ने 17184.79 करोड़ रूपए का प्रिमियम भरा, जिसमें से किसानों को नाममात्र का मुआवजा मिला और आंकड़ों के मुताबिक बीमा कंपनियों को 10,376.31 करोड़ का फायदा हुआ। ये सब किसानों के खून-पसीने की कमाई है, जो बीमा कंपनियों के माध्यम से भाजपा चपत कर गई।

अच्छे दिन का जुमला सुनाकर लोगों के वोट हथियाने वाली भाजपा तीन साल में धर्म, जातिवाद, गाय, तीन तलाक से ऊपर नहीं उठ पाई। साजिश के तहत विवादास्पद मुद्दों को हवा देकर लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिशें हो रही हैं, परंतु भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इस जनविरोधी सरकार की पोल जनता के बीच खोलेगी और पूरे देश से भाजपा के सफाए के लिए राहुल गांधी के नेतृत्व में जन आंदोलन शुरू करेगी। इस दौरान पूर्व संसदीय सचिव दुड़ाराम, पूर्व विधायक रामकिशन फौजी,रणधीर सिंह पनिहार, जयवीर गिल, मानसिंह चेयरमैन, राजेश सिहाग आदि उपस्थित थे।

 

 

Print Friendly, PDF & Email
ना सरकार में करंट, ना बिजली की तारों में-कुलदीप बिश्नोई - NORTH INDIA KALEIDOSCOPE

Rajesh Ahuja

I am a veteran journalist based in Chandigarh India.I joined the profession in June 1982 and worked as a Staff Reporter with the National Herald at Delhi till June 1986. I joined The Hindu at Delhi in 1986 as a Staff Reporter and was promoted as Special Correspondent in 1993 and transferred to Chandigarh. I left The Hindu in September 2012 and launched my own newspaper ventures including this news portal and a weekly newspaper NORTH INDIA KALEIDOSCOPE (currently temporarily suspended).